Category Archives: Members’ Articles

Here’s why Henrik Ibsen’s A Doll’s House touched my heart!

Henrik Ibsen’s ‘A Doll’s House’ It is Christmas Eve and the doll has told maids to hide the Christmas tree from the children until it is decorated and lighted up, and she is going to dress up and perform the … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on Here’s why Henrik Ibsen’s A Doll’s House touched my heart!

जात ना पूछो लेखक की (लेख) – सुनील सालगिया

जात ना पूछो लेखक की  आम तौर पर लेखक की कोई जात नहीं होती। वो सिर्फ़ लेखक होता है । लेखक पर किसी संप्रदाय , धर्म या जाति विशेष का हक भी नहीं होता। मुन्शी प्रेमचन्द ‘ईदगाह’ लिखते हैं , तो … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Tagged , , | Comments Off on जात ना पूछो लेखक की (लेख) – सुनील सालगिया

The SHINING STAR in a Single Night – Koustubh Sapre

Title : The SHINING STAR in a Single Night Author: Koustubh Sapre  Read it Twice, Nobody knows who might become the SHINING STAR Overnight. Respect art and respect and appreciate others’ talent. This will allow you to become a better person. Rejection … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on The SHINING STAR in a Single Night – Koustubh Sapre

पानी से जुड़ी सात चौपाइयां (पानीवली) – – अमित कुमार तिवारी

सुबह नहाने को चले चार बाल्टी दन्न* दिन भर बूंद बूंद को तरसे दूर भयो मति भ्रम जल ही जीवन है कहते बुज़ुर्ग सत्य आज अमल हम कर रहे कल तक समझे व्यर्थ कतार में लगे चार लोग अजब यह … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Tagged , , , | Comments Off on पानी से जुड़ी सात चौपाइयां (पानीवली) – – अमित कुमार तिवारी

कहानी की ख़ोज में – धवल चोखाडिया

एक लेखक अपने आस-पास के हालात को, अपनी और दुसरो की जिंदगी को एक अलग नज़रिए से देखता है | अच्छा और बुर जो भी हो रहा हो उसे देखे, देखे और सोचे | कहीं ना कहीं आपको एक अच्छी … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Tagged , | Comments Off on कहानी की ख़ोज में – धवल चोखाडिया

मुद्दा व्यंग्य का (लेख) – धवल चोखाडिया

मुद्दा व्यंग्य का लेखक – धवल चोखाडिया “व्यंग्य किसे कहते है?”, ये सवाल आप किसी आम आदमी से पूछिये जो लेखक नहीं है | सामान्य रूप से यही जवाब मिलेगा “गहरी बात को हास्यभाव में कहना” | अगर ये सवाल … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Tagged , , , , | Comments Off on मुद्दा व्यंग्य का (लेख) – धवल चोखाडिया

मेरा गॉंव मेरा घर – जय शंकर झा

निरंतरता की पराकाष्ठा हो या कुछ पाने की उत्कंठा  पर इंसान है असहाय ही।भूत बदल नहीं सकता,वर्तमान में जीना पड़ेगा और भविष्य के आगे.……??? मेरा गॉंव मेरा घर, ४ शब्द सुनते ही भावनाओं का सागर उमड़ उठता है जिसकी हर लहर हमारे कोमल … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on मेरा गॉंव मेरा घर – जय शंकर झा

Joint Family – Ruma Paul

JOINT FAMILY By – Ruma Paul                        Do Joint Families still exist in India? If we ask this question to a mere child of today he/she would say No. Joint Family concept is dying fast today, though it had been … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on Joint Family – Ruma Paul

क़लम से की-बोर्ड तक

क़लम के सिपाही, क़लम की ताक़त जैसे जुमले एक ज़माने में बहुत ही मशहूर थे, इन जुमले से यही लगता था की क़लम में बहुत ताकत होती है ! एक वक़्त में क़लमकारों ने क़लम से इन्कलाब को बुलंद किया.. … Continue reading

Posted in Members' Articles | Comments Off on क़लम से की-बोर्ड तक

Signature of True Indian – by Kumar Rajiv Ranjan

Signature of True Indian I wonder how I could change the perception of people who live in this 21st century but still follow the same old mentality, and who spent considerable amount of time ostracizing and abhorring people of other … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on Signature of True Indian – by Kumar Rajiv Ranjan