Category Archives: Members Contributions

This is the Broad category for Members’ Contributions. All the creative material (literature) sent by members is seen here. Depending upon the type of creation the article will be published under appropriate sub-category viz. Articles, Reviews, Cartoons or Creations.

संध्या रियाज़ की तीन कवितायें।

अम्मा अम्मा के जाने के बाद उनकी पेटी से एक थैला मिला है जिसमे मेरे बचपन का रेला मिला है   एक चरखी एक लट्टू एक गुडिया मैली सी एक नाव आड़ी टेडी लहरों में फैली सी एक किताब जिसमे … Continue reading

Posted in MainPage, Members Contributions, Members' Creations | Comments Off on संध्या रियाज़ की तीन कवितायें।

Here’s why Henrik Ibsen’s A Doll’s House touched my heart!

Henrik Ibsen’s ‘A Doll’s House’ It is Christmas Eve and the doll has told maids to hide the Christmas tree from the children until it is decorated and lighted up, and she is going to dress up and perform the … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on Here’s why Henrik Ibsen’s A Doll’s House touched my heart!

जात ना पूछो लेखक की (लेख) – सुनील सालगिया

जात ना पूछो लेखक की  आम तौर पर लेखक की कोई जात नहीं होती। वो सिर्फ़ लेखक होता है । लेखक पर किसी संप्रदाय , धर्म या जाति विशेष का हक भी नहीं होता। मुन्शी प्रेमचन्द ‘ईदगाह’ लिखते हैं , तो … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Tagged , , | Comments Off on जात ना पूछो लेखक की (लेख) – सुनील सालगिया

दो किनारों की दास्ताँ (कविता) – आशुतोष तिवारी

दो किनारों की दास्ताँ सुनो, तुम्हे दो किनारो की, एक दास्ताँ सुनाता हूँ। उम्र से पहले जो ढल गया, किस्सों से भी आगे निकल गया तेज ख़ामोशी का दरिया, जिन दो किनारों को निगल गया। एक किनारा, आज नदी के … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on दो किनारों की दास्ताँ (कविता) – आशुतोष तिवारी

मंथन (कविता) – चन्दन कुमार मिश्रा

(मंथन) दर दर मैं यूँ फिरता हूँ गिरके फिर सम्भलता हूँ किसी के उठाने की मैं क्यों आस करूँ समझ में नहीं आता किस पे विश्वास करूँ। कोई कहता हम हिन्दू हैं कोई कहता है हम मुस्लिम हैं समझ नहीं … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on मंथन (कविता) – चन्दन कुमार मिश्रा

पहचान … (ग़ज़ल) – UE विजय शर्मा

पहचान …                 खुदायी सा प्यारा साथ है यह साथ हमारा तुम्हारा बन मुस्कान साथ चलता है यह साथ हमारा तुम्हारा किसी मंज़िल की तलाश नही है मेरे मन को हमारी राह-ए-ज़िन्दगी पर … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on पहचान … (ग़ज़ल) – UE विजय शर्मा

इश्क़ मुबारक (गीत समीक्षा) – अमित कुमार तिवारी

गीत समीक्षाः  इश्क़ मुबारक (SONG REVIEW) गीतकारः मनोज मुन्तशिर संगीतकारः अंकित तिवारी शैलीः मधुर गीत (MELODY SONG) गायकः अरिजीत सिंह फ़िल्मः तुम बिन 2 ON THE VIEW OF LYRICS- गीतकार मनोज मुंतशिर ने इस प्रेम गीत को लिखा है, गीत … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Reviews | Tagged , , | Comments Off on इश्क़ मुबारक (गीत समीक्षा) – अमित कुमार तिवारी

No ‘Re-Take’ Actor (कहानी) – Rajkumar Arya

No “Re-Take” Actor यह कहानी एक ऐसे “एक्टर” की है जो सिर्फ फिल्मो का ही नहीं बल्कि अपनी वास्तविक जिंदगी का भी एक्टर था। जिसने फिल्मो के साथ साथ कभी अपनी जिंदगी में भी दोबारा कोई “रि-टेक” नहीं लिया। वह … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on No ‘Re-Take’ Actor (कहानी) – Rajkumar Arya

खामोश सा हो गया (कविता) – जुनेजा शशिकांत

खामोश सा हो गया जब रक्त अपना बह गया शब्द भी खामोश थे, दिल क्या जाने कह गया. खामोश सा हो गया, जब रक्त अपना बह गया शब्द भी तो मात दे गए , अकस्मात दे गए. आंसू भी खुश्क … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged , , | Comments Off on खामोश सा हो गया (कविता) – जुनेजा शशिकांत

ऐ दिल है मुश्किल (समीक्षा) – पंकज सुबीर

ऐ दिल है मुश्किल (फर्स्ट डे फर्स्ट शो) क्यों बनाई जाती हैं आख़िर इस प्रकार की फिल्में ? करण जौहर ने किसी शो में कहा था कि उन्होंने लंदन में करीब एक पखवाड़े रहकर इस फिल्म की कहानी लिखी थी। … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Reviews | Tagged , , | Comments Off on ऐ दिल है मुश्किल (समीक्षा) – पंकज सुबीर