Monthly Archives: July 2016

में अकेला पहाड़ तोड़ सकता हूँ (कविता) – मधुर त्यागी

मेरी इस कविता के प्रेरणा श्रोत बिहार के गहलौर गाव के दशरथ मांझी जी हैं। जो एक लक्षय मन में रखकर दिन रात लगातार २२ साल तक पहाड़ के एक एक पत्थर को तोड़ते रहे ताकि वो एक दिन उसमें से रास्ता निकाल … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged , | Comments Off on में अकेला पहाड़ तोड़ सकता हूँ (कविता) – मधुर त्यागी

किलकारियाँ (कविता) – अमित कुमार तिवारी

कविता :   किलकारियां कवि : अमित कुमार तिवारी वह घुटनों के बल मेरा फिसलना बात बात में शरारत करना कभी तुम्हारे पैरों के सहारे पांवों पर खडे होने की कोशिश करना कहीं भी गिरूं तो मां मां पुकारना मेरा तुम्हारा वह रसोई … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on किलकारियाँ (कविता) – अमित कुमार तिवारी

सुल्तान (समीक्षा) – पंकज कुमार पुरोहित

सुल्‍तान : अच्‍छी है देख लें, पैसे व्‍यर्थ नहीं जाएंगे। ”किसी भी विधा का एक शिखर को छू चुका व्‍यक्ति किसी ”कारण” से उस विधा से दूर हो जाता है, गुमनामी में चला जाता है। फिर कोई उसे खोजता है … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Reviews | Tagged , , | Comments Off on सुल्तान (समीक्षा) – पंकज कुमार पुरोहित

भारत माता (कविता) – मदनलाल गोयल

भारत माता यहाँ देव लोक की वाणी है, कुदरत की लिखी कहानी है । यहाँ साधू संतो का साया है, जिन्हे शांति पाठ पढ़ाया है । माँ गंगा ऊपर से आई है, अमृत जल की धारा लाई है । है … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on भारत माता (कविता) – मदनलाल गोयल

निर्दोष (कविता) – मदनलाल गोयल

निर्दोष चोर को चोर कैसे पकड़ पायेगा, एक दूसरे को जानता है कैसे हाथ आएगा । फिर कोई निर्दोष चोर बता कर पकड़ा जायेगा, चलेगा उस पर मुक्कदमा पूरा महकमा जुट जायेगा । आया है अब पकड़ में बहुत राज़ … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on निर्दोष (कविता) – मदनलाल गोयल

ज़िन्दगी – उमेश धरमराज

ज़िन्दगी तेरी ओर ही हैं ज़िन्दगी. कुछ और भी हैं ज़िन्दगी…   भोर से उजली भी हैं घनघोर भी हैं ज़िन्दगी. खुशीयां देती हैं कभी ग़मखोर भी हैं ज़िन्दगी. फुलों से नाज़ुक नाज़ुक कठोर भी हैं ज़िन्दगी. तेरी ओर ही … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on ज़िन्दगी – उमेश धरमराज

रब की मर्ज़ी में मैं होता (गीत) – सुशांत

 रब की मर्ज़ी में मैं होता तेरी किस्मत खुद मै लिखता हो जाते एक दूजे के हम एक दूजे पर जीता मरता ये सारे जज़्बात बदल दो  जिसमें हूँ  मै बात बदल दो इश्क़ बदल दो प्यार बदल दो अपने … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged , | Comments Off on रब की मर्ज़ी में मैं होता (गीत) – सुशांत

“सूखे गुलाब की महक” – मनोजकुमार मिश्रा

भागलपुर स्टेशन पे झटके से इंटरसिटी ट्रेन आकर रूकी तो प्रिया की आंखें अचानक से खुल गयी। अलसायी नज़रो से बाहर देखा तो कुछ एक लोग ही नज़र आ रहे थे। गाड़ी पकड़ने के जल्दबाजी ने प्रिया को थका दिया … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged , | Comments Off on “सूखे गुलाब की महक” – मनोजकुमार मिश्रा

THE BUSINESS OF TV WRITING – MAKING OF THE WRITER

Session 3  –   Aug 4 – 2:15pm – 3:45pm “THE BUSINESS OF TV WRITING – MAKING OF THE WRITER”  MODERATOR –         Vinod Ranganath  PANELISTS:         Jayesh Patil       Shashi Mittal   … Continue reading

Posted in Indian Screenwriters' Conference | Tagged , | Comments Off on THE BUSINESS OF TV WRITING – MAKING OF THE WRITER

DECODING THE DIGITAL PLATFORM

Session 2  –   Aug 4 – 11:45am – 1:15pm  “DECODING THE DIGITAL PLATFORM”  MODERATOR:          Manisha Korde PANELISTS:         Biswapati Sarkar (TVF),         Varun Grover (Aisi Taisi Democracy – a web … Continue reading

Posted in Indian Screenwriters' Conference | Tagged , , , | Comments Off on DECODING THE DIGITAL PLATFORM