Monthly Archives: March 2016

होली गीत – अमित कुमार तिवारी

होली आई होली आई (होली गीत) गलियों का सन्नाटा टूटा देने को हर कोई बधाई होली आई होली आई हुल्लासों की टोली आई 1 खिडकी से झांके गोरी बरसे रंग अबीर गुलाल मस्त मगन हो नाचै कबीरा फाग गावै मिलके … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged , | Comments Off on होली गीत – अमित कुमार तिवारी

आपके आने से (कविता) – ओंकार सिंह ‘विवेक’

मुक्तक (1) आपके आने से हर मंज़र सुहाना हो गया , हर किसी के दिल में ख़ुशियों का ठिकाना हो गया . आपकी आमद के कारण ही हमारी बज़्म में , जो न आते थे कभी उनका भी आना हो … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on आपके आने से (कविता) – ओंकार सिंह ‘विवेक’

TRUMBO A Review – By RAJNNI

TRUMBO  A Review – By RAJNNI Trumbo – The film celebrates the work and life of Dalton Trumbo, with great measures of humor and sadness. Trumbo, the award-winning author and screenwriter who was blacklisted from the film industry from 1947 … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Reviews | Tagged | Comments Off on TRUMBO A Review – By RAJNNI

प ……प प्रेमाचा – मैनुद्दीन जमादार

प ……प प्रेमाचा घरात असणारी शांतता समीर ला आता आवडू लागली होती. माहित नाही मागील किती दिवसापासून त्याने घर सुद्धा झाडले नव्हते. स्वतः कधी नुसता सकाळी उठायला उशीर जरी झाला तरी आरडा ओरडा करणारा समीर हल्ली सूर्याच्या तापट सड्यांच्या चटक्याने … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged , | Comments Off on प ……प प्रेमाचा – मैनुद्दीन जमादार

FWICE Agreement Notice

Posted in MainPage, Notices | Tagged | Comments Off on FWICE Agreement Notice

तेरी बाहों में होने को जी चाहता है – शालू मिश्रा

तेरी बाँहों में होने को जी चाहता है, फ़ना होने को जी चाहता है… तिनका तिनका यादों का, पिरोया एहसास के धागों में.. उन धागों से सजने को जी चाहता है, फ़ना होने को जी चाहता है… बाँहों का तकिया … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Comments Off on तेरी बाहों में होने को जी चाहता है – शालू मिश्रा

दो अक्षर (कविता) – शशि कान्त जुनेजा

शायर किसी की ज़िंदगी पर ,लिख दो अक्षर दो. इक आश्कि इक मेहबूबा,बस नाम बहुत है दो. शायर किसी की…… दो अक्षर के बीच छुपी है,पूरी ही रामायण . दो दो अक्षर मिलकर ही तो,बनता कोई कारण. बस रात बहुत है … Continue reading

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Comments Off on दो अक्षर (कविता) – शशि कान्त जुनेजा

Secular Phone – Pradeep Pundir

Posted in Hasna is Healthy, Members Contributions | Tagged | Comments Off on Secular Phone – Pradeep Pundir

A Two-Day National Seminar & Film Festival at SNDT

Dear All, The Research Centre for Women’s Studies (RCWS), SNDT Women’s University, Juhu, Mumbai is organizing a Two-day National Seminar & Film Festival on the theme, Women Unheard: Silences, Dialogue & Mediation, on 14-15 March 2016.  Entries are invited for research papers … Continue reading

Posted in MainPage, Notices | Tagged , | Comments Off on A Two-Day National Seminar & Film Festival at SNDT