देश भक्ति की लकीरें – प्रदीप चतुर्वेदी

यह गीत देश के वीर जवानों और भारत माँ को समर्पित है 
                      द्वारा : प्रदीप चतुर्वेदी ( सशांत चतुर्वेदी)

देश भक्ति की लकीरे

दिन तलक हाथ है

धूप की गिरेहबान पे

छोड़ के हम चले

जीत को इस मुकाम पे !

रात को गोद में चाँद सोता मिले

प्यार के ज़ज़्बात में सागर बहता कहे

ये हिन्द है !  हिन्द है

जय हिन्द है , जय हिन्द है

 

है जमीं

से गगन तक

वीरों की निशानियाँ

है तो है

बस तो है

तिरंगे की परछाइयाँ

न तुम रुको न हम रुके

भले ये साँसे रुके

इस फ़ौज़ में , इस मौज़ में

जय हिन्द है , जय हिन्द है

ये हिन्द है !  हिन्द है

जय हिन्द है , जय हिन्द है

 

माँ कहो

माँ से कहो

ममता को पुकार लो

देख लो

जीत लो

हर तरफ इस ज़हन को

जो गिर गये, सो गये

उनको ये आवाज़ दो

इस जमीन पे हिन्दुस्तान है

जय हिन्द है , जय हिन्द है

ये हिन्द है !  हिन्द है

जय हिन्द है , जय हिन्द है

Contribution from: Pradeep Chaturvedi
Email: prd.chaturvedi@gmail.com
This entry was posted in Members Contributions, Members' Creations and tagged , , . Bookmark the permalink.