तेरी पायल के घुंघरू (गीत) – शशिकांत जुनेजा

तेरी पायल के घुंघरू

वो तेरी पायल की छम छम,

ले गई दम

जिया जलता है, जिया जलता है

हरदम, हरदम

वो तेरी पायल की छम छम……….

चाल वो तेरी मस्ती सी,

निगहें वो तरसती सी

वो तेरी पायल के घुंघरू,

हाय वो घुंघरू की छम छम

ले गई दम

जिया जलता है जिया जलता है,

हरदम,हरदम

वो तेरी पायल की छम छम,…

बदन वो तेरा उठता सा,

साँस हर तेरा रुकता सा

वो तेरी सांसों की सरगम

ले गई दम,

जिया जलता है जिया जलता है

हरदम, हरदम

वो तेरी पायल की छम छम…

तेरा यूँ भाग कर आना,

आ के नैनो का झुक जाना

रुके से तेरे वो कदम

ले गए दम

जिया जलता है जिया जलता है

हरदम, हरदम

वो तेरी पायल की छम छम….

हंसी वो तेरी मस्ती सी,

चीर के दिल को रखती सी

वो तेरे चेहरे की सरगम

ले गई दम

जिया जलता है,जिया जलता है

हरदम हरदम,

वो तेरी पायल की छम छम….

Juneja SHASHI KANT (J Sk)

(Lyricist) Jaipur

शशिकांत जुनेजा

This entry was posted in Members Contributions, Members' Creations and tagged , . Bookmark the permalink.