Here’s why Henrik Ibsen’s A Doll’s House touched my heart!

Henrik Ibsen’s ‘A Doll’s House’

dollshouse

It is Christmas Eve and the doll has told maids to hide the Christmas tree from the children until it is decorated and lighted up, and she is going to dress up and perform the Tarantella in the party as it is her master’s wish. On the day after Christmas she will leave, changed forever, no longer a doll, but as Nora, Henrik Ibsen’s Nora.

At the time when the play A Doll’s House was written, marriages were sacrosanct, women were meant only to look after their husband, children and the house, in return the husband was to provide her with everything that she needed for maintenance; a rich man was a good prospect of making a happy married life.

Nora – managing the Helmer House and all the maids, taking care of her three little children, jumping around like a squirrel for her husband, Torvald Helmer – is struck by a calamity and there is no one on her side to support her, not even her master, Torvald. When the time approaches for the miracle Nora very much hoped and dreaded for to happen, she is left with absolutely nothing in her life.

henrik-ibsen

Henrik Ibsen

a-dolls-house

From the year 1879 when A Doll’s House was performed for the first time on the stage to the modern 21st century, this play has continued to be appreciated both by the academia and the audience. Free from the in-style verbose poetical soliloquies and with the woman as the central character, it was both a pioneering and a controversial play; pioneering for bringing the element of realistic drama in the theatre world which till then had been occupied with the historical romance and the thesis plays, and controversial for a woman behaving the way Nora did was unheard of, which is why Ibsen, on one occasion, had to present a leading actress with an alternate ending as she refused to act in the play as a woman who abandons her husband and children.

Many playwrights have also criticised the sudden awakening that Nora undergoes, which then gives her the strength to walk out; the Swedish playwright, August Strindberg, questioned Nora’s decision to leave her children with a man whom she doesn’t trust any more.

But, with or without any flaws, Nora’s story has touched many hearts and has made it a timeless piece of work. Its simplicity, conversational tone and ‘the slamming of the door’ climax gives us a truly dramatic, cathartic and a classic three act play. If the change of heart that Nora’s character goes through in the third act is unacceptable and absurd, then it only magnifies the fact that A Doll’s House is an absolutely realistic work because reality is stranger than fiction.

The storyline moves and grows and evolves and complexes with every scene. Nora, shifted from her father’s doll’s house to her husband’s, from past eight years had been working to decorate it. She, Torvald’s little lark, little spendthrift, knows nothing but to be at her husband’s disposal, by thoughtless choice of course. Ivar, Emmy and Bob are Nora’s dolls with whom she happily plays and she is Torvald’s doll, whom she happily obeys.

Nora (goes to the table on the right): I shouldn’t think of doing what yon disapprove of.

Helmer: No, I’m sure of that; and, besides, you’ve given me your word. (Going towards her) Well, keep your little Christmas secrets to yourself, Nora darling. The Christmas-tree will bring them all to light, I dare say.

Uninformed and an act of love becomes unreasonable and an act of forgery for Nora Helmer; she took loan to save her sick husband and forged the documents because that was the only way out. Later when Krogstad present her with the facts, Nora replies,

“Do you mean to tell me that a daughter has no right to spare her dying father anxiety? That a wife has no right to save her husband’s life? I don’t know much about the law, but I’m sure that, somewhere or another, you will find that that is allowed.”

Krogstad is determined to reveal her secret and Nora is worried only for Torvald as she is sure he will take the blame for her sake and spare her any shaming. This is her fear for she knows Torvald would do anything in the world for her safety. What happens, though, is the stark opposite of this; Trovald is only worried about his own reputation and is even ready to bow and accept Krogstad’s demands. When Krogstad sends the IOU and apologies for troubling Nora, Trovald changes euphorically and assures Nora that everything is fine.

But nothing is fine for Nora as she finally sees herself; Torvald becomes a mirror for her and the quick personality shifts he presents her with, shatters the mirror altogether and a real view of things comes in forefront. Nora starts to question – question her life, her relationship with Torvald, her role as a mother, her understanding of what society teaches and what she wishes to learn. Torvald’s little lark realises that she can fly and she, thus, chooses to do so.

Helmer: Nora, can I never be more than a stranger to you?

Nora (Taking her travelling bag): Oh, Torvald, then the miracle of miracles would have to happen.

Helmer: What is the miracle of miracles?

Nora: Both of us would have to change so that… Oh, Torvald, I no longer believe in miracles.

Helmer: But I will believe. We must so change that…?

Nora: That communion between us shall be a marriage. Goodbye.

With A Doll’s House Ibsen had no intention to serve the women’s rights movement, rather it was to present the significance of individual responsibility, the importance of understanding oneself, ones’ purpose in life and then striving to achieve it.

By the end Nora is ready to take a stand for herself, without any fear of the society or her master, without her own fears and inhibitions, without any support, but only with a determined and awakened mind, heart to know about herself and her life. And this certainly is why A Doll’s House still charms its readers, after all, the field of studying oneself is not well explored and many discoveries, many inventions are yet to be made.

 

-Jagriti Thakur

(A writer and SWA member who believes in and practices the art of perpetual storytelling. Reach her at jagriti.thakur5@gmail.com )

 

 

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Comments Off on Here’s why Henrik Ibsen’s A Doll’s House touched my heart!

Screenwriting Workshop with Ron Osborn

scriptwriting-workshop-with-ron-osborn

Posted in Notices | Tagged | Comments Off on Screenwriting Workshop with Ron Osborn

Rest In Peace, OM PURI Ji!

rip-om-puri-banner

The world will remember him as one of the most naturally gifted actors ever. Many will remember him for his warm earthiness and rustic Punjabi humour. A few will remember him for his down-to-earth attitude and the genuine camaraderie he enjoyed with like-minded people such as the senior Puri (Amrishji – no relation) Naseeruddin Shah, Gulshan Grover and others. Fewer still will remember him for the terrific mimic and prankster he was.

Somewhere today, my former Army driver Sethu will be recalling the day when he stood mouth agape, in total shock, as Omji nimbly hopped into our car, even though the film unit had sent a car for him. This was during the shooting of ‘China Gate’ in Hyderabad; the deal was that I travel with him to the location and continue the interview in the car. However, the minute I pulled up outside the hotel in an Army car, Omji ne na daayan dekha na baayan, bas, he got into our car as it had been his dearest wish once upon a time to join the Indian Army. Needless to say, the drive was more of a trip down memory lane and the interview was pushed aside for later. On location, he and Amrishji kept me in splits and both took it in turns to do my khaatirdaari when the other was called for the shot.

om-puri

Somewhere today, my maami (aunt’s) sister will be recalling the time I stayed with her in London. I was attending the World Travel Mart and when I came back home one evening, she said: “Some Om had called for you.” Omji knew that I was in London; he himself was shooting in Wales at the time and had taken it upon himself to check train timings so I could travel down; “Yaar, six bedroom ka cottage diya hai unit waalon ne, bore ho raha hoon, aaja, gappe lagate hain!” I was in splits as I told Lubna aunty it was Om Puri whom she had spoken to. “Hain? Om Puri? The actor??” She literally begged me to let her speak to him so when I called him back, I requested him to say a quick “hi” to her and he generously obliged, indeed, he floored her with his warmth.

And somewhere today, I have been thinking that I spoke to the man just three days ago. He had the flu and his voice sounded heavy with the cold and so we discussed meeting next time either when he was in Bangkok or when I was back in Bombay. If anything, this incident has brought home to me sharply that there are no “next times” – the time that we know is the here and now.

His former wife, Nandita, had written a controversial book on him, but I was surprised to see that she had skipped over much of the early years and the harsh childhood that went into shaping his indomitable spirit. His parents were quite poor and therefore he was being brought up by his uncle and aunt in the village. One day his father and uncle had a fight, as a result of which Omji was made to leave the house. He hid out in the outbuildings and his school friends would steal raw vegetables from their farms and bring him, which the young Om (he was in the 4th Std, so about 9-10 years old then) would attempt to cook. By the time he was in the 5th Std, he was giving tuitions to other children to make ends meet for himself. Omji was very keen to join the Indian Army and even went to the Recruitment Centre at Ambala, however, the Recruiting Officer asked for bribe money which of course, he didn’t have and a disgusted, disillusioned Om turned back – but he never lost his love of all things Army. Much later in his life, when his only child Ishaan was born, he was diagnosed with partial blindness and Omji told me once that he was taking on any role that came his way simply because he had to earn lots of money; there was only one Chinese doctor in Boston who could perform this surgery and this was Omji’s goal.

This is a man who rose above his physical shortcomings and socio-economic background, to win laurels such as the Padma Shri and the OBE, to gain recognition both in the east and the west. Om Puri will be remembered by many for the deeply sensitive, versatile actor that he was and the hard hitting performances that he gave. But some will remember him for the true friend that he was and for the humour and humility that stayed with him no matter how many pinnacles he climbed. If someone can say this about me in my obituary, it will have been a life well worth lived.

– Punam Mohandas

punam-mohandas

 


 

om-puri-2

ओमपुरी- संघर्ष की सतत यात्रा का बेसुरा विराम!

यूं तो मैं बचपन से ही ओमपुरी का प्रशंसक रहा पर मेरा ये दुर्भाग्य रहा कि जब मेरी उनसे मुलाकात हुई तब वे अपनी पत्नी नंदिता के साथ अपने रिश्ते को लेकर कशमकश में थें। उनके टूटते रिश्ते को लेकर समाचार चैनल बड़ी खबरें चला रहे थे, लेकिन मुझसे उनका मिलना शायद मजबूरी थी क्योंकि जयपुर में आयोजित कार्यक्रम उस सीमेंट कंपनी द्वारा आयोजित किया गया था, जिसके वे कुछ समय से ब्रांड एबेंसडर थे। ऐसे में उनका प्रेस रिपोटर्स से रूबरू होना मानो एक पीड़ा का सबब था।

मुझे आज भी याद है वो दिन जब ओम पूरे इंटरव्यू के दौरान आंखें चुरा रहे थे मानो उन्हें डर हो कि मैं कहीं उनसे नंदिता और उनकी टूटती घर गृहस्थी को लेकर कोई सवाल ना कर बैठूं। मैं उनकी पीड़ा को ताड़ गया और मैंने इस बात को लेकर उनसे कोई सवाल नहीं किया। हालांकि दूसरे दिन मेरे पास अपनी न्यूज़ स्टोरी का सनसनी खेज शीर्षक नहीं था और इसे लेकर मेरे सिनेप्रेमी चीफ रिपोर्टर भी मुझसे थोड़े खफा थे । लेकिन आज ओमपुरी जब हमारे बीच नहीं रहे तब गहरी वेदना के बीच मुझे उस दिन की अकर्मण्यता पर खुशी हो रही है।

om-puri-3

ओमपुरी नामक अभिनेता जिसे संघर्ष का दूसरा नाम कहें तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। ओमपुरी के पंजाब में बिताएं बचपन और किशोरवय के बाद के संघर्ष को दरकिनार कर दिल्ली राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय की बात करूं तो यहां भी उन्हें बेहतर अभिनेता होने के बावजूद सैकंड लीड रोल मिलें । नाट्य विद्यालय के तत्कालीन निदेशक इब्राहीम अल्काजी नसीरूद्दीन शाह को प्रमुख रोल दिया करते थे। एक बार जब नसीर नाटक में प्रमुख भूमिका निभाने में असमर्थ थे तो अल्काजी ने दूसरे छात्र सतपाल को प्रमुख रोल देने की बात कहीं तो उन्होंने पूरी क्लास के सामने इस बात का विरोध किया क्योंकि उन्हें विश्वास था कि वो किसी भी मामले में सतपाल से कमतर नहीं हैं।

उनके भद्दे से दिखने वाले चेहरे को लेकर हिंदी फिल्म इडंस्ट्री की मुखयधारा से जुड़े लगों ने चाहे कुछ भी कहा हो पर उनके बेजोड़ अभिनय का लोहा सबने माना। ओमपुरी के मुंबई में शुरूआती दिनों में मरहूम हास्य अभिनेता महमूद ने कहा था कि यार इंडस्ट्री में एक नया अभिनेता आया है जिसके चेहरे के गडढों को एक किलो गोस्त के कीमे से भी नहीं भरा जा सजा सकता है, और बोलता है तो उसकी आवाज ऐसी लगती है जैसे छलनी में कंकड़ छाने जा रहे हों पर जालिम अभिनय ऐसा करता है कि उसे पर्दे पे देख कलेजा मुंह को आता है।

लेकिन उनके जीवन वृत को देख ताज्जुब होता है कि जिसने अपने समय में दुनियां के तमाम विरोध के बाद भी अपने हुनर का लोहा मनवा लिया वो इंसान अपने प्यार और परिवार के समक्ष इतना कमजोर साबित हुआ।

सीमा कपूर से उनकी शादी भी एक हादसे के समान साबित हुई ।

इस क्षणिक से रिश्ते को लेकर सीमा कपूर को इस बात की तसल्ली थी कि उन्होंने उस इंसान से शादी की हैं जिसे वो इंडस्ट्री हाथों हाथ ले रही है जिसमें वो अपनी असीम खूबसूरती के बाद भी अच्छा सा स्थान नहीं बना पाईं वहीं सीमा कपूर के तल्ख लहजे के कारण ओमपुरी ने भी कहीं ना कहीं सीमा कपूर को भी अपने मानसपटल पर उन ट्रोफियों की संज्ञा दे दी जो उन्होंने अपने हुनर के दम पर जीतीं थी।

om-puri-1

उनकी दूसरी पत्नी पत्रकार नंदिता जो कोलकाता में उन्हें सिटी ऑफ जॉय की शूटिंग के दौराना मिली। सीमा कपूर से उनकी शादी की तुलना में ये रिश्ता काफी समय चला लेकिन इस रिश्ते में तल्खी तब आई जब उन्हें सबसे ज्यादा इस रिश्ते की जरूरत थी। उन्हें पिछले कुछ सालों से इस बात की पीड़ा भी थी कि उनकी पत्नी सबसे गाहे बगाहे उनके मासूम बेटे की नजरों में उन्हें बड़ा विलेन साबित करने पर जुटी हुई थी, उनकी मौत के बाद सवाल ये भी आता है कि अब सीमा कपूर को क्या आन पड़ी थी जो वे दोबारा से ओम पुरी के संपर्क में आई और नंदिता से उनका गर्भनाल सा कच्चा पड़ा रिश्ता अंतत: कट गया।

मुझे ये तो नहीं पता कि उन्हें दिल का दौरा पड़ने की वजह, कौन सा एसा समाचार था जो उनके कान में पड़ा जिसे सुनकर वे विचलित हुए होंगे पर उनका ये पूरा देश जानता है कि उनका अंतिम समय शांति सुकून से दूर रहा। अपने आसपास के माहौल से विदीर्ण होकर वे शराबनोशी के आगोश में समा गए।

कुछ समय पहले ऐसे माहौल में ही उनसे फौजियों के लेकर कुछ अटपटा निकल गया तो पूरे देश ने उन्हें आड़े हाथ लिया। दूसरे दिन ही उन पर कौनसा ऐसा दबाब पड़ा कि वे फौजियों के जूतों के आगे नाक रिगड़ने की बात करने लगे। मुझे तो उस समय उनके कंपकंपाते शरीर को लेकर ही मन में डर की एक लहर उत्पन्न हो गई थई। और इस डरा का पटाक्षेप आज सुबह हो ही गया जब मैंने ये खबर सुनी कि अभिनेता ओम पुरी नहीं रहे। … ओम सर भले आप शरीर से हमारे साथ नहीं रहे हों पर अपने काम के जरिए आप दशकों तक आने वाली पीढियों के दिल में मौजूद रहें। । .. सादर नमन!

 

– धर्मेंद्र उपाध्याय

dharmendra-singh

 

Posted in Notices | Comments Off on Rest In Peace, OM PURI Ji!

SWA Members win First Prize at International Competition

6

Posted in MainPage, NewsNReports | Tagged , | Comments Off on SWA Members win First Prize at International Competition

SWA’s Script Library

SWA is planning to build a Script Library – Online on our Website and Offline in the office library; as learning reference for our members. This is a humble appeal to all our esteemed successful Scriptwriter Members who have had their scripts made into films to contribute their film scripts to our Library.  We believe this will be in larger interest of our profession and a big help to budding / struggling writer members understand the art and craft better.. This initiative is purely for academic purpose and contributing members will continue to hold all the copyrights and other rights.

You may send your scripts to editor.fwa.co.in@gmail.com
We can arrange to pick-up the scripts from your place if they are hardcopies.

If you have any queries kindly write to us on the same Email id or call on 9022107700.

We will be glad to cover your interview / articles / special writing experiences / research regarding the scripts, should you wish to share them.

Thank you very much.

SWA Website Committee

PLEASE NOTE WE ARE ONLY LOOKING FOR SCRIPTS WHICH HAVE BEEN FILMED AND RELEASED. DON’T SEND OTHER SCRIPTS / SCRIPTS FOR READING / SEEKING WORK LEADS.

 

Posted in MainPage, Notices | Tagged | Comments Off on SWA’s Script Library

जात ना पूछो लेखक की (लेख) – सुनील सालगिया

जात ना पूछो लेखक की 

आम तौर पर लेखक की कोई जात नहीं होती। वो सिर्फ़ लेखक होता है । लेखक पर किसी संप्रदाय , धर्म या जाति विशेष का हक भी नहीं होता। मुन्शी प्रेमचन्द ‘ईदगाह’ लिखते हैं , तो डॉ. राही मासूम रज़ा – टी वी सीरियल ‘महाभारत’ । लेखक की क़लम किसी धर्म या जाति में बंधती नहीं। वो तो बस लिखता है, डॉ. रज़ा की मानिंद , जिन्होंने अपनी कविता ‘गंगा और महादेव ‘ में लिखा …

मेरा नाम मुसलमानों जैसा है 

मुझको क़त्ल कर दो और मेरे घर में आग लगा दो 

लेकिन मेरी रग रग में गंगा का पानी दौड़ रहा है 

मेरे लहू से चुल्लू भर कर 

महादेव के मुँह पर फेंको 

और उस जोगी से ये कह दो 

महादेव अपनी गंगा को वापस ले लो 

ये हम ज़लील तुर्कों के बदन में 

गाढ़ा गर्म लहू बन बन के दौड़ रही है  

लेखक किसी धर्म या जाति का नहीं होता । लेकिन लेखक का अपना धर्म ज़रूर होता है । वो है लिखना । बेबाक लिखना।

उसकी अपनी जाति भी होती है , जो तय होती है उसके विषय चयन से । जैसे प्रेम कथा लेखक, रहस्य कथा लेखक इत्यादि ।  लेखक की जाति भी उसके विषय चयन के साथ बदलती रहती है। प्रेम कथा लेखक रहस्य कथा लेखक बन सकता है।

आम तौर पर लेखक बंधना नहीं चाह्ता । वो तो बांधना चाह्ता है, अपने मानस पटल पर उभरते विचारों को – शब्दों में । लेकिन व्यवस्था, या कहें , वो सत्ता जो उसके लेखन को बाज़ार तक लाती है , वो उसे बांधना चाह्ती है। उपन्यास के लेखक को पब्लिशर बांधना चाह्ता है। फ़िल्म लेखक को निर्माता , निर्देशक के निर्धारित दायरे में बंधना होता है। और यदि फ़िल्म में कोई बड़ा स्टार हो , तो स्टार की शर्तों पर । टी वी के लेखक का तो और भी बुरा हाल है। वो चैनल की टी आर पी के मीटर को देख कर लिखता है। अक्सर वो वही लिख रहा होता है जिसके लिये उसका मन हामी नहीं भरता । लेकिन पेट भी तो भरना है। पेट के आगे मन हार जाता है। इन्हीं दायरों के बीच उसे अच्छा लिखना होता है । अपने लेखक धर्म का निर्वाह करना होता है। लेकिन सवाल ये है कि अच्छा लेखन किया कैसे जाता है।

जिन दिनों मैंने लिखना शुरु ही किया था , एक बड़े लेखक से मैंने सवाल किया था कि अच्छा लेखक बनने के लिये क्या करना चाहिये । बड़े सरल शब्दों में उन्होंने जवाब दिया था “अच्छा सोचना शुरु कर दो , अच्छा लिखने लगोगे “। बात मेरी समझ में आई नहीं । मेरे चेहरे पर लिखी नासमझी को पढ़ लिया उन्होंने । मुस्कुरा कर मुझसे पूछा ‘क्या लिखते हो’।

मैंने कहा ‘लिखने की कोशिश कर रहा हूं , कहानियां , लेख आदि। लेकिन भाषा , शैली कैसी होनी चाहिये , यदि आप कुछ टिप्स दे सकें तो …

मेरी बात को बीच में ही काटकर उन्होंने कहा ,  ‘यदि भाषा और शैली ही लिखने का मापदण्ड होती , तो भाषा पढ़ाने वाला हर शिक्षक लेखक होता ।  कहानी लिखते हो ना , लिखो । जो दिल में आये लिखो , पर लिखो , हर दिन लिखो , नियमित लिखो । बस इतना समझ कर लिखो , कहानी वही अच्छी है , जो कुछ अच्छा कहती हो । अच्छा कहना सीख लोगे , तो अच्छे ढंग से कहना भी आ जायेगा ।

अब जब भी लिखने बैठता हूँ , उनके शब्द कानों में गूंजते हैं – ‘कहानी वही अच्छी है , जो कुछ अच्छा कहती हो’ ।

लेकिन फ़िर सवाल उठता है कि क्या वो निर्माता , निर्देशक की नज़र में भी अच्छी हो पायेगी । क्या वो चैनल की मार्केटिंग टीम की नज़र में भी अच्छी हो पायेगी ।

मन में उठते सवालों के सैलाब में जवाब मिलता है – लेखक जात हो , लिखो ।  अपने लेखक धर्म का निर्वाह करो , लिखो । अच्छा या बुरा , उन्हें समझने दो ।

sunilsalgia

 

 

 

 

लेखकसुनील सालगिया
sunilsalgia@rediffmail.com

(टीवी और फिल्म लेखक)

 

 

Posted in Members Contributions, Members' Articles | Tagged , , | Comments Off on जात ना पूछो लेखक की (लेख) – सुनील सालगिया

Beyond the Binaries

beyond-the-binaries-web

Posted in Notices | Comments Off on Beyond the Binaries

दो किनारों की दास्ताँ (कविता) – आशुतोष तिवारी

दो किनारों की दास्ताँ

सुनो, तुम्हे दो किनारो की, एक दास्ताँ सुनाता हूँ।

उम्र से पहले जो ढल गया, किस्सों से भी आगे निकल गया

तेज ख़ामोशी का दरिया, जिन दो किनारों को निगल गया।

एक किनारा, आज नदी के बीच से, चुपचाप पुकारता हैं।

नम रेतों के फासले पर, दूसरा, बिना सुने मुस्कराता है।

वही एक, चांदनी रात में, चाँद को अपने हाथो से नहलाता है,

एक लहर पर परछाई रख, तारो में लिपटा चाँद बढ़ाता है।

शायद उस चाँद को देख दूसरे की चंचलता वापस आ जाए,

उलझती बुनती कहानियों में, कोई शब्द, होठो पर आ जाए।

बुझी हँसी भी पूरी नहीं होती, कोई कश्ती सतह से गुजर जाती है,

मोतियाँ गोद में छुपा लेती है, पर एक सीप, उस एक को मिल जाती है।

कई सालो का इतिहास, एक पल मे, गुज़रे पल का हो जाता है,

अचानक तूफ़ान, शांत नदी के, सीने से उबल पड़ता है

दूर थे पर एक रिश्ता तो था, यही आज किनारों को बतलाता है,

दर्द फासले का नहीं, गुमनामी का है, अपनी जिंदगी सुनाता है।

कल रात डूबते वक़्त मिल गया था, वहीँ किनारा मुझको,

अपने हाथो की उँगलियों से, दोनों को मिलाने की कोशिश करता हूँ।

सुनो, तुम्हे दो किनारो की एक दास्ताँ सुनाता हूँ।

आशुतोष तिवारी
ashu774@gmail.com

 

Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on दो किनारों की दास्ताँ (कविता) – आशुतोष तिवारी

मंथन (कविता) – चन्दन कुमार मिश्रा

(मंथन)
दर दर मैं यूँ फिरता हूँ
गिरके फिर सम्भलता हूँ
किसी के उठाने की मैं क्यों आस करूँ
समझ में नहीं आता किस पे विश्वास करूँ।

कोई कहता हम हिन्दू हैं
कोई कहता है हम मुस्लिम हैं
समझ नहीं आता
क़ुरान की तालीम लूँ या
गीता का पाठ करूँ ।
समझ नहीं आता किसपे विश्वास करूँ ।।

किसे पता की मैंने बचपन को खोया
बिना राम बिना रहीम के मैं कितना रोया
वो कह रहें की भुला दो उन यादों को
जला दो इन्हें नफरत की ज्वालामुखी में
समझ नहीं आता
कहाँ से मैं प्रयास करूँ
समझ नहीं आता किस पे विश्वास करूँ ।।

अँधेरा ही अँधेरा है
जैसे लगता है यहाँ सिर्फ गिद्धों का बसेरा है
नोच रहे हैं एक दूसरे को
घोट रहें हैं गला एक दूसरे का।
खुली आँखों से देखकर भला कैसे मैं हर्षो उल्लास करूँ
समझ नहीं आता मैं किसपे विश्वास करूँ
समझ नहीं आता मैं किसपे विश्वास करूँ।।

Name: Chandan Kumar Mishra
Member Id: 32116

Contribution from: Chandan Kumar Mishra
Email: cm4091@gmail.com
Posted in Members Contributions, Members' Creations | Tagged | Comments Off on मंथन (कविता) – चन्दन कुमार मिश्रा

फेलो और एसोसिएट मेंबर्स के लिए अपग्रेड की ज़रुरी सुचना

फेलो और एसोसिएट मेंबर के लिए जरूरी सूचना

SWA के संविधान में १७ जुलाई २०१६ को बुलाई गई एजीएम में कई संशोधन पास किए गये, उनमें से एक संशोधन यह है कि फेलो और एसोसिएट मेंबर को तीन साल के दौरान अपनी मेंबरशिप अपग्रेड करना अनिवार्य होगा। यानी फेलो मेंबर को एसोसिएट या रेगुलर मेंबर के तौर पर तथा एसोसिएट मेंबर को रेगुलर मेंबर के तौर पर अपनी मेंबरशिप अपग्रेड करवानी होगी।
संविधान की धारा 5 ब (2) और धारा 5 ब (3) के अनुसार अपग्रडेशन की सीमा मेंबर बनने की तारीख से तीन साल तक की है। इस समय सीमा के समाप्त होने से पहले यदि कोई सदस्य अपग्रेड होने की योग्यता हासिल नहीं कर पाता है या योग्यता होने के बाद भी मेंबरशिप अपग्रेड नहीं करा पाता है, तो उसकी सदस्यता समाप्त हो जायेगी। सदस्यता समाप्त हो जाने की स्थिति में यदि वह अपनी सदस्यता वापस चाहता है, तो उसे फिर से मेंबरशिप फॉर्म भरना होगा और उल्लिखित फीस भरनी होगी।
यह नियम चूँकि जुलाई 2016 को पास किया गया है, इसलिए इस तारीख से पहले मेंबरशिप लेनेवाले सभी मेंबर्स के लिए अपग्रेडशन की समय सीमा 15 अक्तूबर  2019 तय की गयी है।
इसलिए आप सभी सदस्यों से यह अपील है कि यदि आप फेलो या एसोसिएट मेंबर हैं, तो 15 अक्तूबर 2019 से पहले अपनी सदस्यता अपग्रेड करवा लें।

महासचिव
स्क्रीनराइटर्स एसोसिएशन

Posted in MainPage, Notices | Tagged , | Comments Off on फेलो और एसोसिएट मेंबर्स के लिए अपग्रेड की ज़रुरी सुचना